स्वतंत्रता के समय भारत की राजनीतिक समस्याएँ का वर्णन करें?-Describe the political problems of India at the time of independence in Hindi?

 

Independence

 # स्वतंत्रता के समय भारत देश ने किन-किन समस्याओं का सामना करना पड़ा !राजनीतिक समस्याएँ का वर्णन करें?

 

ब्रिटिश सरकार ने भारत देश के ऊपर काफी लंबे समय तक शासन किया| भारत के प्रभावी नेता, व्यक्तियों , क्रांतिकारियों आदि | हम  ब्रिटिश सरकार के चंगुल से निकाल पाए| ब्रिटिश संसद में पारित स्वतंत्रता अधिनियम के अंतर्गत 14-15 अगस्त 1947 की मध्यरात्रि को भारत को स्वतंत्रता प्राप्त हुई| स्वतंत्रता के साथ साथ भारत का विभाजन भी हो गया था| जिसके कारण भारत देश के समक्ष काफी समस्याएँ खड़ी हो गई थी| इन सभी समस्याओं का सामना करना बहुत जरूरी था| 

भारत देश के सामने राजनीतिक, आर्थिक व सामाजिक समस्याएँ थी| आज हम राजनीतिक समस्याओं के बारे में बात करेंगे|

# भारत देश के समक्ष राजनीतिक समस्याएँ क्या थी?

 
1) विभाजन और शरणार्थी की समस्या :-          स्वतंत्रता के साथ -साथ भारत का विभाजन दो स्वतंत्र राष्ट्रों भारत व पाकिस्तान में हुआ | पाकिस्तान  में जो हिन्दू थे उनके साथ काफी बुरा व्यवहार किया गया| दिल्ली शहर में तो शरणार्थियों की भरमार हो गई थी| स्वतंत्र भारत के सामने शरणार्थियों के कल्याण की समस्या ,पुनवार्स , खान-पान की बड़ी समस्या थी| भारत ने काफी प्रयासों के बाद भी एक सही व्यवस्था का अभाव था| 
Independence

2) एकता व अखंडता की समस्या :-         भारत की एकता की सबसे बड़ी समस्या भारत का अंदर छोटी -बड़ी 565 रियासतों का होना| स्वतंत्रता के समय इन रियासतों को स्वतंत्र रहने ,भारत या पाकिस्तान में मिलने की स्वतंत्रता दि गई थी| अगर रियासत स्वतंत्र रहने का फैसला के लेते तो भारत की एकता व अखंडता ही समाप्त हो सकती थी| ऐसे में सरदार पटेल जी की मदद से सभी रियासतों  को भारत में मिला ही लिया जिससे भारत की एकता व अखंडता को कोई नुकसान नहीं पहुंचा |

3) कानून और व्यवस्था की समस्या :-           भारत विभाजन के कारण सांप्रदायिक दंगे भी हुए| अमृतसर और लाहौर में यह दंगे तीव्र थे | कानून और व्यवस्था पूरी तरह बिगर गई जिसके कारण यह दंगे चरमसीमा पर पहुँच गए थे| इसे सही करना एक बहुत बड़ी समस्या थी|

4) लोकतंत्र स्थापित करने की समस्या :-         स्वतंत्र भारत में वयस्क मताधिकार के आधार पर लोकतंत्र को अपनाया गया लेकिन समस्या यह थी कि भारतीय नेता और जनता को लोकतंत्र का कोई भी अनुभव नहीं था | ऐसे में भारत में लोकतंत्र को अपनाने में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ा|

# निष्कर्ष 

जैसा कि  हम देख सकते है भारत देश के सामने स्वतंत्रता के समय कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ा था |राजनीतिक समस्या का सामना करना भारत के नेता व भारत की जनता को काफी कुछ झेलना भी पड़ा था| आज भी भारत देश में काफी परेशानियाँ है बस फर्क इतना है आज की समस्या स्वतंत्रता की समस्या से अलग है |

@Roy Akash (pkj) 

1 thought on “स्वतंत्रता के समय भारत की राजनीतिक समस्याएँ का वर्णन करें?-Describe the political problems of India at the time of independence in Hindi?”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *