ऊर्ध्वाधर वितरण क्या है?-What is the vertical distribution in Hindi?


 
Vertical distribution


# ऊर्ध्वाधर वितरण क्या है?

ऊर्ध्वाधर वितरण का अभिप्राय है की सरकार के विविध स्तरों का होना। किसी भी देश को चलाने व उस देश/राष्ट्र पर शासन करने के लिए  ऊर्ध्वाधर वितरण का होना बहुत जरूरी माना जाता है अगर वो देश लोकतांत्रिक है तो उस देश में काफी महत्वपूर्ण हो जाता है।

ऊर्ध्वाधर वितरण मे हम सरकार के 3 महत्वपूर्ण स्तरों के बारे में जानने का प्रयास करेंगें। 

* केंद्र सरकार (central government)
*  राज्य सरकार (State government) 
*  स्थानीय सरकार (local government)

 इन रूप मे जानते है। इसे हम ऐसे समझ सकते है की किसी एक क्षेत्र मे कार्य को करने मे एक व्यक्ति को जितना समय लगता है वही कार्य अगर दो या दो से अधिक व्यक्ति उसी क्षेत्र  कार्य करते है तो वही कार्य करने मे कम समय लगता है। 

जैसा की आप सभी जानते है कि भारत भी एक बहुत बड़ा देश है। भारत दुनिया मे 7 नंबर पर आता है अगर सरकार के कार्य को दो या दो से अधिक स्तरों पर करंगे तो कार्य आसान ओर तेजी से होगा।

पूरी दुनिया मे दो  स्तरों केंद्र सरकार (central government) ,राज्य सरकार (State government) को अधिक देखने को मिलती है परंतु स्थानीय सरकार (local government) को पूरी दुनिया मे अभी तक पूरी तरह से नहीं अपनाया गया है लेकिन भारत जैसे देश ने स्थानीय सरकार (local government) को अपनाया है ।

municipalities

भारत के अंदर स्थानीय सरकार (local government) को 1993 मे अपनाया गया था।  स्थानीय सरकार (local government) भारत के अंदर शहर मे नगर-पालिकाओं (municipalities) और ग्रामीण/गाँव मे पंचायत (पंचायत) के नाम से जाने जाते है।  73th एण्ड 74th संविधान संसोधन द्वारा 1992 मे लाया गया और 1993 मे लागू कर दिया गया। जैसा की हम  ग्रामीण/गाँव मे पंचायत (पंचायत) और शहर मे नगर-पालिकाओं (municipalities) होती है। 

स्थानीय सरकार (local government) के चुनाव निर्वाचन आयोग द्वारा नहीं करवाए जाते। 

 

@Roy Akash (pkj) 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *