# वैश्वीकरण की परिभाषा और कारण बताइए?

20वी शताब्दी के अंतिम दशक के दौरान कई भारी मुद्दे सामने आए जिनमें  वैश्वीकरण प्रमुख रूप से सामने आया है। वैश्वीकरण शब्द का प्रयोग बड़े पैमाने पर अंतर्राष्ट्रीय बाजारों में होता था।

वैश्वीकरण  एक बहुआयामी धारणा है जिसके अंतर्गत विश्व के एक हिस्से से विचारों , पूंजी , वस्तुओं तथा व्यक्तियों के प्रवाह दूसरे हिस्से तक पहुंचता है। यह एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका प्रभाव मानव के सामाजिक , आर्थिक तथा राजनीतिक सभी क्षेत्रों में पड़ रहा है। इसमें कौशल , भाषा , सांस्कृतिक प्रथाएँ ,राजनीतिक विचार , लोगों का पलायन  , प्रौद्योगिकी का प्रवाह , व्यापार , श्रमिक व निवेश तक शामिल है। 

विश्वीकरण में एक देश की सम्पूर्ण प्रक्रिया व अर्थव्यवस्था विश्व के अन्य देशों के साथ सामंजस्य स्थापित करती है।

शीत युद्ध और उसके परिणाम संदर्भ सहित?-Cold War and its results with references in Hindi?

# वैश्वीकरण के 4 कारण:- 

1) वैश्वीकरण में विज्ञान व प्रौद्योगिकी के विकास ने पूंजी , वस्तु , विचार एवं लोगों की गतिशीलता से दुनिया के विभिन्न भागों में आवाजाही को बढ़या है।

2) विश्व के किसी भी भाग में घटित होने वाली विभिन्न घटनयो का पूरे विश्व पर प्रभाव पड़ता है जिससे आपस में जुड़े रेहने की भावना का विकास हुआ है।

3) उदारवादी नीति ने भी वैश्वीकरण को बढ़ावा दिया है। इसके अन्तर्गत उद्योगपति किसी नहीं उद्योग व्यापार या व्यवस्था में जा सकते है। विश्व व्यापार संगठन (WTO) की सदस्यता स्वीकार कर लेने के बाद बहुराष्ट्रीय कंपनियाँ अपने पैर फैला रही है। विकासशील देश आर्थिक नीतियाँ अपना रहे है।

4) सभी राष्ट्र किसी ना किसी रूप में दूसरे राष्ट्रों पर निर्भर है और यह निर्भरता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

गरीबी का अर्थ तथा मुख्य कारण क्या है?-What are the meaning and main cause of poverty?

#निष्कर्ष 

अगर हम वैश्वीकरण के निष्कर्ष की बात करें तो वैश्वीकरण पूरे विश्व में एक बहुत बड़े बदलाव के साथ 20वी शताब्दी के अंतिम दशक में देखा गया। वैश्वीकरण नीति से लगभग सभी देशों ने अपने -अपने देशों का विकास की गति तेज किया है। यह देश आयात -निर्यात से आत्मनिर्भर भी बने है। 

@Roy Akash (pkj)

भारतीय इतिहास के बारे में जाने:-

 शीत युद्ध क्या है समझाइए? शीत युद्ध क्या है उत्तर बताओ! -What is Cold War in Hindi? what is the cold war the answer?  Cold War-era notes

By Roy Akash (pkj)

POL KA JAADU My Name is Roy Akash (pkj) admin of this www.polkajaadu.com Blog website.

Leave a Reply

Your email address will not be published.